दिमाग को दस गुना तेज करने के सबसे कामियाब नुस्खे | increase Brain Power, Memory Capacity

0
310

मस्तिष्क की तुलना दुनिया के नक्शे से करें तो यह गलत ना होगा। हालांकि दुनिया का नक्शा तो फिर भी अपनी जानकारी में सीमित है लेकिन दिमाग का नक्शा तो अपने अंदर दुनिया भर में चलने वाले हर क्षेत्र की जानकारी को समाये रखता है। सोते समय हमारे शरीर आराम करता है लेकिन मस्तिष्क फिर भी चलता रहता है। दिमाग हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि यह हमारे शरीर के सभी अंगो को कंट्रोल में रखता है और यदि दिमाग ही स्थिर नहीं है तो इससे याददाश्त कमजोर होने की संभावना रहती है। आइए मस्तिष्क को तेज करने वाले कुछ तरीकों के बारे में जानते हैं-

व्यायाम से करें दिमाग तेज

जैसा कि आप लोग जानते ही होंगे कि व्यायाम करने से शरीर फिट और तंदुरुस्त रहता है। रोजाना 20 मिनट व्यायाम करने से मस्तिष्क की मांसपेशियों को मजबूती और भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन मिलती है। इसके अलावा व्यायाम करने से मस्तिष्क में न्यूरॉन्स के उत्पादन में बढ़ोतरी होती है जिससे स्मरण शक्ति, मस्तिष्क की गति, निर्णय लेने, कुछ नया सीखने आदि जैसी गतिविधियों में मदद मिलती है।

बाएं हाथ का प्रयोग बुद्धिमत्ता के लिए

मस्तिष्क को तेज करने के लिए हाथों का प्रयोग भी कारगर सिद्ध होता है। शोधों से पता चलता है कि जिस हाथ को आप ज्यादा प्रयोग करते हैं कभी कभी उससे दूसरे वाले हाथ से कार्य करने से मस्तिष्क के दोनों गोलार्द्ध कार्यशील होते हैं जबकि यदि जिस हाथ का ज्यादा प्रयोग करते हैं उसी से ही कार्य करते रहने से मस्तिष्क का एक ही गोलार्ध कार्यशील रहता है, तो इस तरह मस्तिष्क की कार्यशीलता के लिए बाया गोलार्द्ध दाएं हाथ के साथ और दांया गोलार्ध बाएं हाथ के साथ कनेक्ट होता है।

टेट्रिस खेलने से बढ़ाएं याददाश्त

मनुष्य के मस्तिष्क में ग्रे द्रव्य नाम का योगिक होता है, इसी के अंदर अधिकतम न्यूरॉन्स पाए जाते हैं। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के एक रिसर्च से पता चलता है कि यदि कोई व्यक्ति टेट्रिस या ब्लॉक जोड़ने वाला खेल खेलें तो ग्रे द्रव्य में वृद्धि होती है फलस्वरुप न्यूरॉन्स के उत्पादन में भी बढ़ोतरी होती है जिससे मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करके स्मरण शक्ति को भी बढ़ाया जा सकता है।

ध्यान करना है बेहद फायदेमंद

ध्यान, योगा, मेडिटेशन करने से आपके मस्तिष्क को सुकून मिलता है क्योंकि इससे दिमाग को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन और खून मिलता है। नियमित रूप से ध्यान का प्रयास करने से हमारे मस्तिष्क में अधिक मात्रा में न्यूरॉन्स बनते हैं जिससे स्मरण शक्ति और ध्यान केंद्रित करने की क्षमता में भी बढ़ोतरी होती है।

झपकी ले दिमाग को स्वस्थ रखें

जिन लोगों की झपकी लेने की आदत होती है वह अपने काम को रचनात्मक और प्रभावशाली तरीके से पूर्ण करते हैं। जर्मनी के एक शोध से पता चलता है ऐसे लोगों की स्मरण शक्ति अन्य की तुलना में ज्यादा होती है। लगातार जाग कर काम करते रहने वाले लोग किसी भी जानकारी को थोड़े ही समय के लिए मस्तिष्क में रखने की क्षमता रखते हैं उस क्षेत्र को हिप्पोकैंपस कहते हैं और दूसरी तरफ झपकी लेने की आदत से कोई भी जानकारी लंबे समय तक के लिए उपलब्ध रह सकती है उसे नियोकार्टेक्स कहते हैं।

विटामिन और पोषक तत्वों का सेवन

अल्जाइमर रोग से जूझ रहे रोगियों को विटामिन बी 12 और ओमेगा फैटी एसिड का सेवन जरूर करना चाहिए। इसके अलावा मछली का सेवन भी गुणकारी माना जाता है, इसमें मौजूद होमोसिस्टीन एमिनो एसिड उम्र के साथ याददाश्त कम होने वाली परेशानियों में मदद करता है। यदि आप चाहें तो कुछ एंटीऑक्सिडेंट्स वाले तत्व जैसे चॉकलेट और सूखे मेवे का भी सेवन कर सकते हैं। यह सभी याददाश्त और स्मरण शक्ति को बढ़ाने में कारगर साबित होते हैं।

खूब पानी पिएं

अधिक मात्रा में पानी पीने से शरीर हाइड्रेट रहता है और अत्यधिक तेजी से कार्य करता है। जर्नल ऑफ पोषण के शोध से पता चलता है कि मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए पानी का सही सेवन बेहद आवश्यक है, यहां तक की आप कोई चीजें भूलते भी नहीं है। यदि आपके शरीर में पानी की कमी है तो वह आपके मूत्र के ज्यादा पीलेपन से पता चल सकती है।

तनाव से दूरी बनाए

तनाव से ग्रसित लोग ज्यादातर किसी भी जानकारी को अल्पावधि के लिए ही याद रख पाते हैं और जब बात किसी जरूरी चीजों को याद रखने की आती है तो यह उनके लिए बेहद मुश्किल भरा क्षण होता है, इसीलिए जितना हो सके अपने आप को तनाव से दूर रखें। तनाव से छुटकारा पाने के लिए आप ध्यान, संगीत जैसी गतिविधियों में व्यस्त होकर आनंद ले सकते हैं।

स्वस्थ दिमाग के लिए सही आहार

कभी कभी पोषण पोषण तत्वों से भरपूर आहार न लेने के कारण भी तनाव, रक्त शर्करा और ऑक्सीजन का ठीक से संचय जैसी समस्याएं होती हैं। दैनिक आहार में सूखे मेवे, अलसी के बीज, तिल और गुड़, दालचीनी और शहद आदि को शामिल करें। इससे आप की मानसिक शक्ति में वृद्धि होती है और आप ऊर्जावान महसूस करते हैं।

जोगिंग जरूर करें

जब कभी भी आप किसी शारीरिक गतिविधि में लीन होते हैं तो रक्त प्रवाह तेज होता है और मस्तिष्क में न्यूरॉन्स को ऑक्सीजन अधिक मात्रा में पहुंचती है जो आपकी कार्य क्षमता और याददाश्त बढ़ाने में लाभदायक होती है। एक अध्ययन में पाया गया कि यदि आप नियमित रूप से जोगिंग करें तो आप में भरपूर ऊर्जा का एहसास होता है, जिससे आप थकान, तनाव नहीं बल्कि तंदुरुस्त और फुर्तीला महसूस करते हैं।

ग्रीन टी है फायदेमंद

ग्रीन टी के सेवन से हमारे शरीर में अनगिनत फायदे होते हैं। एक जापानी शोध से पता चलता है कि ग्रीन टी की पत्तियों में थियेनाइन नामक ऐमिनो अम्ल होता है जो चिंता, तनाव को कम करके ध्यान और स्मरण शक्ति बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें मौजूद कैफीन थकान दूर करता है और साथ ही ऊर्जावान बनाए रखता है।


dimag tej kaise kare,increase memory power in hindi,dimag tez karne ka tarika in urdu,memory tez karne ke upay,mind tez karne ke upay,foods to make the mind sharp,memory boosting home remedies,how to get sharp memory,tips to get sharp mind,health tips in hindi video,free hindi advice

कमेंट करें

अपनी कमेंट यहाँ लिखे
यहा आपका नाम लिखे