नया काम शुरू करने से पहले ये 8 बातें जान लो नहीं तो पछताओगे

0
27

नीति-शास्त्र के ज्ञाता होने के साथ-साथ, आचार्य चाणक्य एक विद्वान, कुशल व विख्यात अर्थशास्त्री भी थे, उनकी लिखी गई नीति-शास्त्र के सूत्र आज के समय में भी उतने ही प्रासंगिक हैं, जितने की पहले थे। इसी प्रकार उन्होंने किसी भी कार्य को प्रारंभ करने के पूर्व, कुछ बातों पर ध्यान देने के संबंध में कुछ सूत्र दिए हैं, क्योंकि किसी भी कार्य को प्रारंभ करने के पूर्व, हमारे मन में यह शंका होती है कि हम उस कार्य में सफल होंगे या नहीं, इसी शंका के निवारण के लिए, आचार्य ने कुछ ऐसे सूत्र दिए हैं, जिनका अनुसरण करके, हम अपने सभी कार्यों में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

सोच रखें सकारात्मक

इस सूत्र में चाणक्य कहते हैं कि अपना कोई भी व्यवसाय शुरू करने के पूर्व, मन में सकारात्मक सोच और विचार रखने चाहिए, किसी भी नकारात्मक विचारों को दिमाग पर हावी ना होने दें, और अपनी सफलता के प्रति पूर्ण आश्वस्त रहें। मन में हमेशा सही बातों का ख्याल रखें, जैसे आपकी वित्तीय स्थिति, आपका सहयोग करने वाले लोग, व्यवसाय का स्थान और व्यवसाय प्रारंभ करने का समय आदि सभी बातों को मन में स्पष्ट रूप से रखकर कार्य प्रारंभ करें।

स्वयं की क्षमता का अंदाज़ा

आचार्य कहते हैं कि कोई भी कार्य प्रारंभ करने के पूर्व, अपनी स्वयं की सही क्षमता का अंदाजा जरुर लगा लेना चाहिए, क्योंकि यदि आपने अपनी क्षमता का सही आंकलन नहीं किया है, तो भविष्य में कार्य प्रारंभ करने के पश्चात, यह आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

वाणी पर नियंत्रण

आचार्य का कथन है कि केवल अपने कार्य व्यवसाय में ही नहीं, बल्कि जीवन के हर क्षेत्र में आपकी किसी भी असफलता और सफलता में इस बात का बहुत बड़ा महत्व है कि, आप कैसी भाषा का प्रयोग करते हैं? इसलिए हमेशा अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें, आपकी जुबान जितनी मधुर होगी, लोगों के साथ आपका जितना अच्छा सद्व्यवहार होगा, वह आपके कार्य व्यवसाय के सफलता के लिए उतना ही श्रेष्ठ फलदायक होता है।

मित्र बनायें शत्रुओं को

नीति शास्त्र कहता है कि व्यापार-व्यवसाय में किसी से भी दुश्मनी, व्यवसाय के लिए अच्छी नहीं होती है, और यदि आप सद्व्यवहार करते हैं, मधुर वचनों का प्रयोग करते हैं, तो वैसे भी अपने शत्रुओं को अपना मित्र बनाने में, आपको कोई समय नहीं लगेगा। इससे आपको अपने कार्य में निश्चित रूप से सफलता प्राप्त हो होगी, और कोई शत्रु ना होने से, इसमें कोई बाधा उत्पन्न नहीं हो सकेगी।

स्वयं की सेहत पर ध्यान दें

इस सूत्र का तात्पर्य है कि यदि हम कोई भी नया कार्य व्यवसाय या प्रोजेक्ट प्रारंभ करने जा रहे हैं, तो हमें सबसे पहले यह निश्चित कर लेना चाहिए कि हम शारीरिक रूप से सेहतमंद हैं, क्योंकि यह शरीर ईश्वर का दिया गया वरदान है, किंतु यदि हम शारीरिक रूप से मजबूत व स्वस्थ नहीं होंगे, तो इससे हमारे कार्य व्यवसाय पर प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं, और इस वजह से हम असफल भी हो सकते हैं।

अवश्य राय लें पत्नी से

आचार्य का कहना है कि पत्नी हमारी अर्धांगिनी यानी कि शरीर का आधा हिस्सा होने के साथ ही हमारी जीवनसाथी भी होती है, इसीलिए किसी भी कार्य व्यवसाय का निर्णय लेने व उसे प्रारंभ करने से पूर्व, अपनी पत्नी की राय अवश्य लेनी चाहिए, और उसके सलाह को भी उचित महत्त्व देना चाहिए।

अपनी बातें गोपनीय रखें

आचार्य का कथन है कि किसी भी कार्य व्यवसाय या प्रोजेक्ट को प्रारंभ करने से पूर्व, अपनी कार्य योजना के बारे में किसी से भी कोई चर्चा ना करें, इस स्थिति में अपने व्यवसाय का नया विचार और उसके आईडिया के बारे में किसी से कोई बात साझा ना करें। अपनी योजना के बारे में अन्य लोगों को बताने पर हो सकता है कि आपके व्यवसाय के प्रारंभ में ही लोग उसमें बाधाएं उत्पन्न करने लगे, जिससे आगे चलकर उस व्यवसाय में आप असफल हो जाएं, इसीलिए अपनी बातों को पूरी तरह गोपनीय रखकर अपना कार्य प्रारंभ करना चाहिए।

आवश्यकता अनुसार शर्म का त्याग करें

नीतिशास्त्र के सूत्र का तात्पर्य है कि अपने कार्य व्यवसाय के लिए, कई स्थितियों में अगर आपको शर्म का त्याग करना पड़े, या थोड़ा-सा अशिष्ट व्यवहार भी करना पड़े, तो उसमें कोई बुराई नहीं है, क्योंकि यह कहते हैं कि जिंदगी में अगर आपको सफल होना है, तो कुछ कड़े निर्णय भी लेने आवश्यक होते हैं, इसलिए अपने कार्य व्यवसाय के लिए, थोड़ी बहुत अशिष्टता या बेशर्मी करनी पड़े, तो उसमें आपको पीछे नहीं हटना चाहिए।


motivational thoughts of chanakya,chanakya niti for students in hindi,acharya chanakya niti,motivational lines of chanakya,inspirational thoughts of chanakya,chanakya neeti hindi video,chanakya niti about women,chanakya niti business,chanakya neeti for successful life,best thoughts of chanakya,chankya neeti corporate word,acharya chanakya neeti in hindi,free hindi advice

कमेंट करें

अपनी कमेंट यहाँ लिखे
यहा आपका नाम लिखे