शादी के लिए लड़कियों की क्या शर्तें होती है? Indian Marriage Advice

0
17

वर्तमान समय में अधिकतर महिलाएं, अपने कैरियर और जॉब को लेकर अवेयर होने के कारण, जिस प्रकार सेल्फ डिपेंड हो गई हैं, वैसे ही शादी के पहले, उनकी कुछ इच्छाएं और शर्तें भी होती है, जो वे चाहती हैं कि उनके होने वाले पार्टनर उसे समझें और पूरा करें। एक ऑनलाइन मैच मेकिंग साइट के सर्वे के परिणाम बताते हैं कि किस तरह से भारतीय महिलाओं की सोच में व्यापक परिवर्तन हो रहे हैं, जोकि आधुनिक जीवनशैली और पाश्चात्य संस्कृति से भी कुछ हद तक प्रभावित दिखाई देते हैं, इसलिए आजकल की महिलाएं शादी के लिए हां कहने से पहले चाहती हैं कि उनकी इच्छाओं और शर्तों का भी सम्मान किया जाए।

इस लेख में हम जानेंगे, ऐसी ही कुछ काम की जानकारियों के बारे में, जो बताती है कि शादी के पहले लड़कियों की क्या शर्ते या इच्छाएं होती है?

पैरेंट्स और फैमिली के बारे में

आजकल की ज्यादातर लड़कियों की इच्छा होती है कि वह शादी के बाद भी अपने पेरेंट्स और फैमिली के साथ हमेशा संपर्क में रहे, साथ ही उनका पुरुष पार्टनर भी उनके साथ अपने परिवार की तरह व्यवहार करे, और उन्हें भी अपने परिवार जितना ही महत्व दे।

अपनी आजादी व कैरियर के बारे में

शादी के लिए हां करने से पहले, ज्यादातर लड़कियों की शर्त होती है कि शादी के बाद भी वे अपना जॉब करती रहेंगी, और अपनी निजी जीवन में भी स्वतंत्रता चाहती हैं। वे यह नहीं चाहती कि शादी के बाद उसके पार्टनर की फैमिली की जिम्मेदारियों और उलझन में उन्हें डाला जाए, बल्कि वे पूरी आजादी के साथ, पहले की तरह ही अपना कार्य करना चाहती हैं।

बच्चों के बारे में

अधिकतर शादीशुदा जोड़ों में शादी के बाद, बच्चों की जिम्मेदारियों और देखभाल को लेकर ही अक्सर तनाव होता है, इसलिए लड़कियां चाहती हैं कि शादी के बाद बच्चों की जिम्मेदारी में, उनका पुरुष पार्टनर भी उनका पूरा साथ दे। वे मानती हैं कि बच्चों की देखभाल या पढ़ाई-लिखाई की जिम्मेदारी, अकेले उनकी नहीं है, बल्कि इसमें उनके पुरुष पार्टनर का भी बराबर सहयोग होना चाहिए।

अपनी पहचान के बारे में

वर्तमान समय में लड़कियां, विशेष करके वर्किंग वूमेन, शादी के बाद भी अपनी पहचान को बदलना नहीं चाहती हैं। वे अपने कैरियर और जॉब में, जिस नाम और पहचान से काम कर रही हैं, उसे वैसा ही रखना चाहती हैं, यानी कि वे शादी के बाद, अपने पति के सरनेम का प्रयोग नहीं करना चाहती और अपने सरनेम और पहचान के साथ ही रहना चाहती हैं, जो कि उनकी स्वतंत्र सोच का एक उदाहरण है।

रिस्पॉन्सिबिलिटीस के बारे में

शादी के बाद लड़कियां, अपनी और अपने पार्टनर की रिस्पॉन्सिबिलिटी के प्रति भी बहुत अवेयर हो गई है। वे चाहती हैं कि उनके पार्टनर, घर की जिम्मेदारियों को निभाने में उनका पूरा साथ दें। आजकल की लड़कियों के वर्किंग वूमेन होने के कारण, उनके पास भी समय की कमी होती है, ऐसे में वे चाहती हैं कि जरूरत पड़ने पर, उनके पुरुष पार्टनर घर के कामों में भी उनका साथ दें और घर की जिम्मेदारियों को सही ढंग से निभाएं, ताकि अकेले उनको इसका तनाव ना हो।

क्या कहता है ऑनलाइन सर्वे?

शादी के लिए हां कहने से पहले, लड़कियों की इच्छाओं और शर्तों के बारे में एक भारतीय मैच मेकिंग साइट के द्वारा किए गए, ऑनलाइन सर्वे के परिणाम बताते हैं कि आजकल की ज्यादातर लड़कियां (70% से अधिक) इन शर्तों को जरूरी समझती हैं, जबकि कुछ लड़कियों (लगभग 6%) का यह भी मानना है, कि उनकी ऐसी कोई खास शर्त नहीं है, और कुछ लड़कियों (लगभग 24%) का यह भी कहना है कि उन्होंने कभी इस बारे में ज्यादा सोचा नहीं है।

तो आपने यह देखा कि किस तरह से समय के साथ, लड़कियों के शादी के लिए तैयार होने से पहले, अपनी इच्छा और शर्तों के संबंध में, व्यापक परिवर्तन हो रहे हैं, और अब वह भी अपनी फैमिली लाइफ में अपने पार्टनर की बराबर जिम्मेदारी चाहती है। तो अब इस जानकारी को आप अपने परिचितों और दोस्तों के साथ भी शेयर करें।


husband wife relationship problems in hindi,husband wife relationship tips in hindi,reasons for husband wife fights,solve husband and wife relations problem,solve husband wife disputes,how to improve husband wife relationship,how to become good wife,indian marriage advice,tips for happy married life in hindi,marriage tips for couples,how to make your husband value you,how to make husband realize your value,free hindi advice

कमेंट करें

अपनी कमेंट यहाँ लिखे
यहा आपका नाम लिखे