Vitamin B9 के कमी के फायदे, लक्षण, उपचार और आहार | Vitamin B9 deficiency

0
671

फोलिक एसिड (Fo।ic Acid) और फोलेट (Fo।ate) के नाम से जाना जाने वाला विटामिन बी9 का प्रमुख कार्य, हमारे शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में मदद करना है, क्योंकि यह शरीर में उपस्थित कार्बोहाइड्रेट को शरीर के लिए उपयोगी ग्लूकोज में परिवर्तित करने का कार्य करता है, जिससे शरीर की आवश्यक गतिविधियों के लिए ऊर्जा प्राप्त होती है। यह तंत्रिका तंत्र के सुचारु संचालन का कार्य भी करता है, और साथ ही यह बालों, आंखों, लीवर व त्वचा आदि के लिए बहुत आवश्यक व उपयोगी होता है।

विटामिन बी9 के सेवन के प्रमुख लाभ

फोलिक एसिड या विटामिन बी9 वैसे तो सभी लोगों के लिए कई प्रकार से शरीर के लिए अति आवश्यक व लाभप्रद होता है, किंतु विशेषकर गर्भवती महिलाओं के लिए यह अत्यंत आवश्यक व उपयोगी तत्व है।गर्भधारण करने के लगभग एक वर्ष पूर्व से ही महिलाओं को फोलिक एसिड का नियमित सेवन करना चाहिए। इसके सेवन से गर्भ में शिशु के असमय मृत्यु की संभावना या आशंका काफी कम हो जाती है।फोलिक एसिड का सेवन भ्रूण के उचित निर्माण व नवजात शिशु में, जन्म से मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी की विकृतियों को कम करने में सहायता मिलती है। विटामिन बी9 या फोलिक एसिड का नियमित रूप से सेवन करने पर, हमारे शरीर का कई रोगों से बचाव होता है, क्योंकि यह रक्त में उपस्थित लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में सहायक होता है। इसके संबंध में की गई कई रिसर्च यह बताती है कि इसका सेवन, मस्तिष्क के लिए भी प्रभावकारी होता है। फोलिक एसिड के सेवन से बढ़ती उम्र के साथ श्रवण शक्ति में होने वाली कमी की परेशानी को दूर करने में मदद मिलती है।

विटामिन बी9 की प्राप्ति वाले आहार व जरिया

विटामिन बी9 या फोलिक एसिड का सेवन हमारे शरीर के लिए उपरोक्त कारणों से बहुत आवश्यक व महत्वपूर्ण होता है। इसके लाभों के बारे में आपको जानकारी हो गई होगी। विटामिन बी9 कई प्रकार के भोज्य पदार्थों व आहार में प्राकृतिक रूप में उपस्थित होता है। विटामिन बी9 गहरे हरे रंग की पत्तेदार सब्जियों जैसे पालक व अन्य पत्तेदार सब्जियां, सरसों का साग, एस्परैगस, कसूरी मेथी, अंकुरित अनाज, चुकंदर, शलजम आदि में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा विटामिन बी9 दूध व दूध से निर्मित वस्तुओं, एवोकाडो, संतरे का रस, सभी प्रकार की दालें, सेम(।ima Beans), गेहूं, राजमा, साबुत अनाज, जड़ वाली सब्जियां, सॉलमन फिश और मांसाहार में लीवर का सेवन के द्वारा भी यह भरपूर मात्रा में प्राप्त होता है। यह विटामिन बी9 गोली व जैल दोनों रूपों में प्राप्त होता है। विटामिन बी9 को बच्चों को आसानी से देने के लिए इसे तरल व गोली दोनों रूपों में बनाया जाता है, इसके अलावा अन्य व्यक्तियों के लिए विटामिन बी9 को मल्टीविटामिन की गोलियों के रूप में लिया जा सकता है।

फोलिक एसिड (विटामिन बी9) की कितनी दैनिक मात्रा का सेवन उचित है

फोलिक एसिड (विटामिन बी9) युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन अपने आहार के रूप में सभी व्यक्तियों को जरूर करना चाहिए, लेकिन इसकी उचित मात्रा का सेवन आवश्यक है, जो हर आयु वर्ग के लिए निश्चित होती है, इसलिए इसके सेवन के पूर्व, इस के दुष्प्रभावों से बचने के लिए, किसी योग्य चिकित्सक या विशेषज्ञ से राय अवश्य लेनी चाहिए। विशेषज्ञों या चिकित्सकों द्वारा हर आयु वर्ग के लिए इसकी निम्नलिखित मात्रा तय की गई है।

  • 0 से 6 माह के नवजात शिशु के लिए – 0.065 मिलीग्राम
  • 7 से 12 माह के शिशु के लिए – 0.08 मिलीग्राम
  • 1 से 3 साल के बच्चे के लिए – 0.15 मिलीग्राम
  • 4 से 8 साल के बच्चे के लिए – 0.2 मिलीग्राम
  • 9 से 13 साल के लिए – 0.3 मिलीग्राम
  • 14 से 18 साल के लिए – 0.4 मिलीग्राम
  • 19 वर्ष व अधिक के पुरुष के लिए – 0.4 मिलीग्राम
  • 19 वर्ष व अधिक की महिलाओं के लिए – 0.4 मिलीग्राम
  • गर्भवती महिलाओं के लिए – 0.6 मिलीग्राम
  • स्तनपान करने वाली महिलाओं के लिए – 0.5 मिलीग्राम

इसी प्रकार यह ध्यान देने योग्य है कि हृदय रोगियों को फोलिक एसिड का सेवन करने के पूर्व, किसी योग्य चिकित्सक या विशेषज्ञ से राय अवश्य लेनी चाहिए। विटामिन बी9 का ज्यादा मात्रा में सेवन करने पर यह विटामिन बी12 की कमी को भी पूरा करने में सक्षम होता है।

फोलिक एसिड की कमी होने की पहचान व इसके दुष्प्रभाव

गर्भवती महिलाओं में गर्भावस्था में, जब शिशु को गर्भ में फोलिक एसिड की पूर्ण व पर्याप्त मात्रा उपलब्ध नहीं हो पाती है, तब उसके शरीर में इस विटामिन की कमी हो जाती है, और इस कमी के कारण नवजात शिशु के शरीर में जन्म से ही, तंत्रिका तंत्र के रोग व रीढ़ की हड्डी के रोग होने की आशंका काफी बढ़ जाती है।

शरीर में फोलिक एसिड की कमी के लक्षण निम्नानुसार होते हैं

  • कमजोरी महसूस होना (शारीरिक दुर्बलता)
  • चिड़चिड़ा स्वभाव होना
  • वजन घटना
  • भूख में कमी
  • थकान होना
  • मुंह में घाव होना
  • सोचने व याद रखने में मुश्किल होना

फोलिक एसिड की कमी से होने वाले दुष्प्रभाव

  • मुंह में छाले होना
  • थकान होना
  • जी मिचलाना
  • होठों के किनारों की त्वचा सुख कर घाव हो जाना
  • मुंहासे होना
  • होंठ फटना

ज्यादा समय तक फोलिक एसिड की न्यूनता से होने वाले रोग

  • गर्भाशय ग्रीवा का कैंसर
  • मलाशय व आंतों के कैंसर का खतरा
  • हड्डियों की कमजोरी
  • एनीमिया
  • अल्जाइमर रोग
  • हाई बीपी (उच्च रक्तचाप)

शरीर में फोलिक एसिड कि अपर्याप्त मात्रा या न्यूनता की वजह से एनीमिया होने की दशा में, आप दवा के रूप में भी फोलिक एसिड का सेवन करके, शरीर में इसकी कमी को दूर कर सकते हैं। फोलिक एसिड के सेवन के उपरांत, शरीर में एक बार इसका स्तर सामान्य हो जाने पर, आपकी रक्त कोशिकाएं सामान्य व संतुलित ढंग से अपना कार्य संचालन करना प्रारंभ कर देती हैं।

विटामिन बी9 की अधिक मात्रा के सेवन के दुष्प्रभाव

विटामिन बी9 के अधिक मात्रा में सेवन या शरीर में इस की अधिकता से कोई बड़ी या गंभीर समस्या उत्पन्न नहीं होती है, क्योंकि यह विटामिन बी9 तरल अवस्था में होता है, और शरीर में इसकी अधिक मात्रा होने पर यह मूत्र-विसर्जन के द्वारा शरीर से निष्कासित हो जाता है। कुछ अपवादस्वरूप मामलों में, इसमें पेट में खराबी होने की संभावना होती है, लेकिन ज्यादातर मामलों में विटामिन बी9 की अधिक मात्रा का कोई खास दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है।


vitamin b9 ke fayde,vitamin b9 ke fayde in hindi,vitamin b9 benefits,vitamin b9 benefits in hindi,vitamin b9 health benefits,vitamin b9 ki kami in hindi,vitamin b9 ki kami se hone wali beemariya in urdu,vitamin b9 ki kami se hone wali problems vitamin b9 kya hai,health tips in hindi video,free hindi advice

कमेंट करें

अपनी कमेंट यहाँ लिखे
यहा आपका नाम लिखे